India

नागौर की छोटी बेरी: गर्व के साथ देश की सेवा करने वाले बहादुर कायमखानियों का एक आदर्श गांव।

Spread the love

नागौर जिले का छोटी बेरी गांव पूरी तरह बदल गया है। कायम खानी के प्रभाव वाले इस गांव में कुछ साल पहले तक झोपड़ी थी। आज अच्छी-खासी हवेलियां हैं, पहले मोटे कपड़े पहनने में भी दिक्कत होती थी, लेकिन अब बेरी गांव में शायद ही कोई ऐसा युवक या युवती हो, जिसने आकर्षक टेरी काट से बने रंग-बिरंगे कपड़े न पहने हों। आवश्यक सुविधाओं के साथ मकान बनाए गए हैं । छोटी बेरी के कायमखानी मुसलमानों ने 400 परिवारों के साथ अपनी गरिमा बनाए रखी है। इस गांव के 95% लोग कायमखानी मुसलमान हैं।

पूर्व सरपंच कैप्टन कासिम खान ने कहा कि यहां एक भी व्यक्ति शराब नहीं पीता है। मुसलमान शराब से दूर रहते हैं, और ब्याज पर पैसा भी नहीं कमाते हैं । उनका कहना है कि यहाँ पर एक भी स्थापित परिवार सूदखोरी से कमाई नहीं करता है। आपस में लेन-देन समान मात्रा में ही होता है।

राजस्थान में स्थापित खानी जाति का अपना इतिहास है। दादरवा के चौहान राजा के पुत्र कैम सिंह ने सम्राट फिरोज शाह तुगलक के शासनकाल के दौरान दिल्ली में इस्लाम धर्म अपना लिया था। उनके अन्य भाइयों के बच्चे अभी भी चौहान राजपूत हैं। कायम खानी बनने के बाद भी उनके बच्चों से राजपूत संस्कृति दूर नहीं हुई। बेरी के कायम खानी कहते हैं कि पांच पीढ़ी पहले राजपूतों में शादी का चलन था। अब राजपूतों के साथ सांस्कृतिक संबंध पूरी तरह से टूट चुके हैं। गांव में कायम खानी के घर को कोटडी कहा जाता था। राजपूतों की भाँति विवाह में भी जमघट होता था, कुर्बानी होती थी। गांव के पश्चिमी तरफ बेरी में एक बड़ी मस्जिद बनाई गई है। बेरी की मस्जिद पर 30 लाख से ज्यादा खर्च किए गए। मस्जिद गांव की सुंदरता में चार चांद लगाती है। गांव के लोगों ने मस्जिद के लिए पैसा भी दिया है।

गांव के कई क़ायमखानियों ने हज भी किया है। आजादी के बाद बेर्री के क़ायमखानी गांव में रहकर सुखी और संतुष्ट महसूस कर रहे है।

बेरी का कोई महल नहीं है। यह फतेहपुर, झंझुनू के अंतर्गत आता है। जयपुर के राजा सवाई जय सिंह, सेकर के शिव सिंह शेखावत, झंझुनू के सादुल सिंह ने फतेहपुर, झुंझुनू के नवाब को समाप्त कर अपना शासन स्थापित किया। इस प्रकार, फतेहपुर, झंझुनू में स्थित खानियों की नवाबी 300 साल पहले समाप्त हो गई, लेकिन बेरी गुट अभी भी जीवित है।

1961 में बैरी की जनसंख्या 1,223 थी। उस समय यह गांव कम आबादी के बावजूद आर्थिक रूप से काफी कमजोर था। अब आबादी 2500 से ज्यादा है। कई लोगों ने तो मॉडर्न स्टाइल के बंगले भी बनवा लिए हैं। यह अरब देशों के पैसों की वजह से हुआ है। छोटी बेरी की महिलाएं काम के लिए बाहर नहीं जाती हैं। दिन भर हर घर में महिलाएं कपड़ों पर बूंदी बनाने का काम करती हैं। यहां पर बूंदी बनाने के लिए सुजानगढ़ लादन डडवाना लुसाल द्वारा कपड़ा सप्लाई किया जाता है। एक भी महिला बेकार नहीं बैठती है। लड़कियों ने पढ़ाई शुरू कर दी है। लोगों का कहना है कि सबसे ज्यादा रिश्ते गांव में ही होते हैं। महिलाओं के कपड़े अच्छी क्वालिटी के और महंगे होते हैं। वर्षों पहले कायम खानी महिलाएं राजपूत महिलाओं की घाघरा लगदी काली कुर्ती पहनती थीं। अभी सलवार कुर्ते ज्यादा चलन में हैं। बूढ़ी औरतें आज भी पुराने रीति-रिवाजों की ओर आकर्षित होती हैं। नई पीढ़ी पूरी तरह बदल चुकी है। प्रत्येक कायम खानी परिवार ने स्कूल को 1,000 रुपये का दान दिया। यहां के कायम खानी मलकान गोत्र के हैं। मंगलोना और शुभसार के पास केवल “मलकान” है।

कैमखानियों ने हमेशा युद्धों में भाग लिया है। उन्हें भारतीय सेना की नौकरी पसंद है। भारत के विभाजन के दौरान कायम खान के अधिकांश परिवार भारत में ही रहे। भारत-पाक युद्ध के दौरान कायम खानी के सैनिकों ने भारतीय सेना में वीरता दिखाकर नाम कमाया। भारतीय सेना में स्थायी अधिकारियों की सीटें भी आरक्षित होती हैं। इस गांव में कायम खानी का हर घर फौज से जुड़ा है। बड़ी संख्या में विधवाओं को पेंशन मिल रही है। और यहां से बड़ी संख्या में लोग सेना में कैप्टन के पद तक पहुंचे हैं. कप्तान कासिम खान, कप्तान फैजो खान, कप्तान असगर खान, कप्तान भंवरो खान, कप्तान ताजो खान, कप्तान अस्ता अली खान, कप्तान फैज मुहम्मद खान और 200 से अधिक सैनिक सेना में सेवा दे रहे हैं या पेंशन प्राप्त कर रहे हैं।

इस गांव के सिपाही इब्राहिम खान पाकिस्तान से युद्ध के दौरान एक टैंक में जलकर खाक हो गए था। सरकार ने उन्हें मुरादाबाद में एक पेट्रोल पंप दिया है। छोटी बेरी के कालू खान को भी सरकार ने सम्मानित किया। मास्को ओलंपिक में घुड़सवारी में हुसैन खान कैप्टन ने यह सम्मान हासिल किया है। 61वीं कैवलरी में बेरी के कई गांवों ने घुड़सवारी में अपना नाम बनाया है। बैरी के अयूब खान मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं। निक मोहम्मद यहां जोधपुर में पुलिस इंस्पेक्टर हैं। अलाउद्दीन खान सेवानिवृत्त आरआई हैं और गफूर खान सेवानिवृत्त थानेदार हैं।

कायम खानों में शिक्षा के सुधार के लिए जोधपुर, डडवाना में छात्रावास चलाए जा रहे हैं। यहां कोई सांप्रदायिक तनाव नहीं है। न कोई कलह। सैनिकों की संख्या अधिक होने के कारण वे विनम्रता से बात भी करते हैं। कुछ परिवार यहां जोधपुर, जयपुर में बसे हुए हैं। पहले इस गाँव में 500 ऊँटगाड़ियाँ हुआ करती थीं जो आय का मुख्य स्रोत थीं। अब लगभग सभी इसे बेच चुके हैं। बेरी को एक आदर्श गांव कहा जा सकता है।

(लेखक एमएसओ के चीयरमैन और सामुदायिक नेता हैं)

Related Posts

आखिर कौन हैं कोडिंग मास्टर मुस्कान अग्रवाल? जिन्हें मिला है 60 लाख रूपये सालाना की जॉब का प्रस्ताव।

मुस्कान अग्रवाल भारत की सबसे शानदार महिला कोडर हैं। उनको  लिंक्डइन से सालाना 60

1 of 14

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *