India

टाटानगर के नाम से मशहूर जमशेदपुर 

Spread the love

The Steel City” के रूप में जाना जाने वाला, जमशेदपुर झारखंड राज्य का सबसे बड़ा शहर है। जमशेदपुर को “टाटानगर” के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह टाटा मोटर्स और टाटा स्टील के औद्योगिक दिग्गजों का घर है। जमशेदपुर, भारत के पहले औद्योगिक नियोजित शहरों (Planned Cities) में से एक है और भारतीय राज्य झारखंड में सबसे अधिक आबादी वाला शहरी समूह है। इसकी स्थापना जमशेदजी टाटा (टाटा समूह के संस्थापक) द्वारा की गई थी और उनके नाम पर भी इसका नाम रखा गया था।

पूर्वी सिंहभूम जिले का हिस्सा जमशेदपुर शहर 224 sq km में फैला हुआ है जहाँ की आबादी लगभग 13 लाख है जिसमें से फीसद आबादी मुस्लिम है। यहाँ खास बात यह है की जमशेदपुर में तक़रीबन फीसद सिख आबादी भी रहती है। जमशेदपुर की तक़रीबन दो तिहाई आबादी शहर में रहती है। जिस जिले में जमशेदपुर स्थित है वह तीन राज्य बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के बॉर्डर पर स्थित है।

अगर हम जमशेदपुर की अर्थव्यवस्था की बात करें तो किसी को बताने की जरूरत नहीं है जमशेदपुर का मतलब ही टाटा स्टील और टाटा मोटर्स है। साक्षरता की बात करें तो यहाँ की 90 फीसद आबादी शाक्षर है। यहाँ पर आप को हर भाषा बोलते इंसान मिलेंगे; हिंदी, उर्दू, पंजाबी, उड़िया, संथाली, भोजपुरी, बंगाली आदि। ट्रांसपोर्ट के मामले में भी यह शहर अच्छी हालत में है। रहने के लिहाज से जमशेदपुर को पुरे देश में दूसरा दर्जा हासिल है।

आज़ादी आंदोलन के अग्रणी नेताओं में शामिल और उससे भी ज्यादा एक मजदूर नेता के रूप में मशहूर प्रोफ़ेसर अब्दुल बारी टाटा कंपनी एक दूसरे के पूरक हैं। आपको जानकर बेहद हैरानी होगी कि प्रोफ़ेसप बारी साहब की वजह से आज भी टाटा के मज़दूरों को 6 पैसे में चाय मिलती है। ये बारी साहब की ही देन है कि आज भी टाटा कंपनी के तमाम कैंटिनों में यहां के तमाम मज़दूरों को चाय, समोसा, चना, नमकीन पूड़ी, प्याजी और आलूचाप यानी हर आईटम सिर्फ़ छह पैसे में मिलता है। अब अब सवाल यह उठता है कि मज़दूर छह पैसा देते कैसे हैं? इस पर वहां के लोग कहते हैं कि हम एक बार में दो रूपये का टोकन ले लेते हैं और उसी से पूरे हफ़्ते खाते रहते हैं।

शिक्षा और खेल के क्षेत्र में जमशेदपुर को अव्वल दर्जे का माना जाता है। यहाँ पर बड़े बड़े शिक्षण संस्थान की भरमार है और फुटबाल के मामले में तो यहाँ की दिवानगी से दुनिया वाकिफ है। जमशेदपुर में पर्यटकों के देखने लायक बहुत सारी जगह है जिसमें Jubilee Park, Dalma Wild Life Sanctuary, Dimna Lake, Tata Steel Zoological Park आदि प्रमुख हैं। बहुत कम लोग जानते हैं कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के तीन प्रमुख सितारे इम्तियाज़ अली, प्रियंका चोपड़ा और आर॰ माधवन जमशेदपुर के ही हैं।

झारखंड के पिछले मुख़्यमंत्री रघुबर दास भी जमशेदपुर से ही विधानसभा पहुंचे थे मगर इस बार अपनी ही पार्टी बीजेपी के बागी उम्मीदवार सरयू राय से हार गए। टाटा स्टील और टाटा मोटर्स में काम करने के लिए जमशेदपुर में हमेशा ही देश भर के मजदुर तबके का ताँता लगा रहता है। वैसे तो झारखंड की पहचान एक आदिवासी और खनिज संपदा से भरपूर प्रदेश के रूप में होती है मगर जमशेदपुर को आप इससे उलट शहरीकरण का नमूना कह सकते है। शहरों की एक बेदर्द कहानी यह होती है कि वह आप से जितना लेते हैं उसके एवज में उतना लौटाते नहीं, यही बात जमशेदपुर पर भी लागू होती है।  

बाकी सब खैरियत है

Related Posts

1 of 14

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *