India

जामिया के दो पूर्व छात्रों को दिल्ली उर्दू अकादमी पुरस्कार मिला।

Spread the love

जामिया मिलिया मिलिया (जेएमआई) के लिए यह गर्व की बात है कि विश्वविद्यालय के एक वर्तमान प्रोफेसर, एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर और एक पूर्व छात्र को उर्दू अकादमी, दिल्ली सरकार द्वारा उनके साहित्यिक योगदान के लिए प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला।

पुरस्कार समारोह 6 जुलाई, 2023 को दिल्ली सचिवालय, आईपी एस्टेट के सभागार में आयोजित किया गया था।

अंग्रेजी विभाग के प्रोफेसर मोहम्मद असदुद्दीन को दिल्ली सरकार की उर्दू अकादमी द्वारा वर्ष 2021-22 के लिए अनुवाद के लिए पुरस्कार मिला है।

विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त प्रोफेसर प्रोफेसर शम्सुल हक उस्मानी ने पंडित की उपाधि प्राप्त की। वर्ष 2021-22 के लिए बृज मोहन दत्तातारिया कैफी पुरस्कार।

जेएमआई के पूर्व छात्र डॉ. आदिल हयात को अकादमी द्वारा वर्ष 2019-20 के लिए बाल साहित्य के लिए पुरस्कार मिला।

जामिया की कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं दीं।

ज्ञात हो कि जामिया के कुलपति के सचिव डॉ. अब्दुल नसीब खान और जामिया में अंग्रेजी के पूर्व प्रोफेसर प्रोफेसर अनीसुर रहमान को क्रमशः वर्ष 2018 और 2019 में अनुवाद के लिए उर्दू अकादमी, दिल्ली का पुरस्कार मिला।

Related Posts

आखिर कौन हैं कोडिंग मास्टर मुस्कान अग्रवाल? जिन्हें मिला है 60 लाख रूपये सालाना की जॉब का प्रस्ताव।

मुस्कान अग्रवाल भारत की सबसे शानदार महिला कोडर हैं। उनको  लिंक्डइन से सालाना 60

1 of 14

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *