India

दुर्गा पूजा बचाने को जब गांव के मुस्लिम आगे बढ़े!

Spread the love

देश में धार्मिक सहिष्णुता और एकता के इतने उदाहरण हैं कि अगर हम उनके बारे में लिखेंगे और पढ़ेंगे, तो कहानी कभी खत्म नहीं हो सकती है.

यह हम निश्चित रूप से कह सकते हैं कि ये परंपराएं और सभ्यता खत्म नहीं होने वाली हैं, चाहे कितनी भी ताकत क्यों न लगा ले.

ऐसा ही एक उदाहरण पश्चिम बंगाल का है. जहां बर्दवान में न केवल हिंदू और मुसलमान मिलकर दुर्गा पूजा की तैयारी कर रहे हैं, बल्कि इस दुर्गा पूजा श्रृंखला को जारी रखने के लिए संघर्ष भी कर रहे हैं. अतीत में, एक कुलीन बंगाली परिवार अशग्राम में दुर्गा पूजा का आयोजन करता था, जिसे ‘मंडल दुर्गा पूजा’ के नाम से जाना जाता था. उस समय यह पूजा केवल मंडल वंश पूजा के नाम से जानी जाती थी. दूर-दूर से लोग उसे देखने आते थे. क्षेत्र का गौरव था. लेकिन एक समय ऐसा आया, जब यह परिवार गिर गया, स्थिति बिगड़ गई और हर साल की तरह हर साल मंडल पूजा आयोजित करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं बचा.

उस समय कुछ ऐसा हुआ, जिसके बारे में मंडल परिवार ने सोचा भी नहीं था. न केवल हिंदू, बल्कि मुस्लिम भी ग्रामीण आगे आए. जिन्होंने ‘मंडल दुर्गा पूजा’ की कमान संभाली. यह सिलसिला थमा नहीं. हिंदू मुस्लिम गठबंधन ने सबको चौंका दिया, जिसके बाद गोलारा गांव दुर्गा पूजा अब धर्मों की पूजा है. जो सिर्फ एक पारिवारिक पूजा हुआ करती थी, वह अब गोलारा गांव में सभी के लिए एक त्योहार है. उत्सव में गांव के मुस्लिम समुदाय के लोग भी शामिल होते हैं. वे मंदिर के सामने झाडू लगाने से लेकर बाजार और पूजा तक सब कुछ करते हैं.

बता दें कि इस पूजा की शुरुआत गोलारा गांव के मंडल परिवार ने करीब डेढ़ सौ साल पहले की थी. उस समय परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी थी. दुर्गा पूजा धूमधाम से मनाई जाती रही. आने वाली पीढ़ियां विधिवत पूजा कर रही थीं. यह परिवार समृद्ध था. लेकिन एक समय ऐसा भी आया जब 150 साल पुराने मंडल परिवार की पूजा पैसों के अभाव में बंद कर दी गई. तब ग्रामीणों ने पूजा की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली. हिंदुओं के अलावा गांव के मुस्लिम परिवारों ने भी आगे आकर पूजा फिर से शुरू की. आज यह देश के लिए पूजा की मिसाल है. दिलचस्प बात यह है कि एक मुस्लिम व्यापारी ने भी इस मंदिर को तोड़कर नया बनाने का वादा किया है.

इस उदाहरण ने पूर्वी बर्दवान के अशग्राम के गोलारा गांव को अनोखा बना दिया है. जहां दुर्गा पूजा साल दर साल सद्भाव की अनूठी मिसाल बनती जा रही है. अब दुर्गा पूजा का आयोजन ग्रामीणों की जिम्मेदारी है, लेकिन दुर्गा मंदिर की देखभाल की भी. सफाई से लेकर पूजा बाजार तक – हर काम में गांव के लोग शामिल होते हैं, चाहे वे हिंदू हों या मुसलमान. ऐसा लगता है कि गांव ने इस दुर्गा पूजा को अपनाया है.

एक स्थानीय व्यक्ति शेख मुश्ताक अली ने बताया कि हमारे गांव की यह दुर्गा पूजा 150 साल पुरानी है. इस परिवार में पूजा को बहुत पहले ही रोक दिया गया था. तब से गांव में हर कोई पूजा के लिए जिम्मेदार है. पूजा में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने दी जाती है. पूजा परंपरा के अनुसार भक्ति के साथ की जाती है. इस साल हमें सरकारी अनुदान भी मिला है.

शेख मुश्ताक अली और अब्दुल गनी के अनुसार यह गांव दुर्गा पूजा 150 साल पुरानी है. इस परंपरा को जीवित रखना हमारा कर्तव्य है. अब्दुल गनी ने कहा, ”हमारा मंदिर बहुत पुराना और जीर्ण-शीर्ण है. इसे तोड़कर नया मंदिर बनाने की इच्छा है. इस बीच, पास के एक गांव के निवासी अब्दुल्ला नाम के एक व्यापारी ने हमें नए मंदिर के निर्माण के लिए अपने समर्थन का आश्वासन दिया है. हम सब भी धन उगाही कर रहे हैं. अगले साल तक नए मंदिर का काम शुरू होने की उम्मीद है. गोलारा गांव की मूर्ति का विसर्जन या भासन हिंदू भक्तों के साथ-साथ मुसलमानों के कंधों पर भी किया जाता है.”

गोलारा गांव की दुर्गा पूजा के दौरान मूर्ति निर्माण से लेकर विसर्जन तक गांव के मुस्लिम समुदाय के लोग समान कर्तव्य निभाते हैं. पूजा का सारा खर्च हिंदू और मुसलमान दोनों वहन करते हैं. पुराने मिट्टी के घर में देवी का मंदिर है. मंदिर परिसर को साफ रखने और मंदिर के रख-रखाव, मंदिर के रख-रखाव से लेकर पूजा के खर्च के साथ-साथ खाने-पीने की व्यवस्था के लिए मुस्लिम समुदाय समान रूप से जिम्मेदार है.

ग्रामीण सुनील मंडल ने कहा, ”मंडल परिवार का आर्थिक संकट कई साल पहले शुरू हुआ था. दुर्गा पूजा की लागत कम नहीं है. इसलिए परिवार के लिए पूजा करना संभव नहीं था. इसलिए गांव में सभी ने पूजा की. जिम्मेदारी. यह मेरा भारत है. हर तरफ से अच्छा. यही है असली भारत की कहानी. ये है भारत की असली तस्वीर. जिसे दुनिया ईर्ष्या भरी निगाहों से देखती है.

Founder of Lallanpost.Com

Related Posts

1 of 14

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *