India

उत्तर भारत की कड़कड़ाती सर्दियों में राहत प्रदान करती अल फलाह फाउंडेशन

Spread the love

दिल्ली (दिसंबर 2023): उत्तर भारत की हाड़ कंपकपा देने वाली सर्दियां गरीब जनता के लिए किसी मुसीबत से काम नहीं होती है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक केवल साल 2022 में ही उत्तर भारत में 2220 लोगों को इस भयानक सर्दी ने मौत की आगोश में सुला दिया था।

अपने लोक कल्याण के कामों के लिए देश भर में प्रसिद्ध अल फलाह फाउंडेशन अपने स्थापना के समय से ही गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए प्रयासरत है। उत्तर भारत की कड़ाके की सर्दी में गरीबों को राहत देने के लिए संगठन की तरफ से हर साल सर्दियों में “विंटर ड्राइव” के तहत गरीब और जरूरत मंद परिवारों को कम्बल और जैकेट बांटे जाते है।

इसी प्रोग्राम के तहत रविवार 24 दिसंबर 2023 को दिल्ली के कालिंदी कुञ्ज की एक बड़ी झुग्गी बस्ती में ‘चिल्ड्रन ऑफ एडम’ के सहयोग से जैकेट वितरण का प्रोग्राम आयोजन किया गया। जिसमें 150 से ज्यादा परिवारों को गर्म जैकेट प्रदान की गयी ताकि वो इस कड़कड़ाती ठंड में थोड़ी राहत की साँस ले सकें।

इस मौके पर अल फलाह फाउंडेशन की तरफ से मौलाना साद राशिद नदवी, इंजीनियर उबैदुल्लाह और ज़ुबैर खान सईदी ने जरूरतमंद परिवारों गर्म जैकेट के प्रोग्राम को सफलता पूर्वक आयोजित किया।

इस मौके पर अल फलाह फाउंडेशन के कोऑर्डिनेटर ज़ुबैर खान सईदी ने बताया कि “हमारा संगठन हर साल पूरे भारत वर्ष में 3000 से ज्यादा कंबल और गर्म जैकेट जरूरतमंद परिवारों को बाँटने का काम करता है। हर साल की तरह इस साल भी चिल्ड्रेन ऑफ एडम हमारे संगठन का सहयोग करते हुए 1000 गर्म जैकेट का सहयोग दिया है।”

आगे उन्होंने बताया कि “आगामी कुछ दिनों में हमारा संगठन बिहार के सुपौल, समस्तीपुर, दरभंगा, मधुबनी और रक्सौल में भी कंबल और जैकेट बांटने का आयोजन करेगा। इसके साथ ही पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर, उत्तर प्रदेश के डुमरियागंज और महाराजगंज में भी गरीब और जरूरतमंद परिवारों के लिए राहत का सबब बनेगा।”

Related Posts

आखिर कौन हैं कोडिंग मास्टर मुस्कान अग्रवाल? जिन्हें मिला है 60 लाख रूपये सालाना की जॉब का प्रस्ताव।

मुस्कान अग्रवाल भारत की सबसे शानदार महिला कोडर हैं। उनको  लिंक्डइन से सालाना 60

1 of 14

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *