Muslim

अब्दुल रज्जाक ने कैंसर के कारण अपने पिता को खोया, कोई और ऐसा दिन न देखे इस लिए बदल दिया जिंदगी जीने का तरीका

Spread the love

इरशाद सक़ाफी | लल्लनपोस्ट

मज़बूत संकल्प, कड़ी मेहनत और लगन के ज़रिये जिंदगी को बदला जा सकता है। और कठिन परिस्थितियों में भी सुधार किया जा सकता है। और यह कर दिखाया है राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के बगोद कस्बे के रहने वाले किसान अब्दुल रज्जाक ने.अब्दुल रज्जाक एक किसान हैं. और भीलवाड़ा में बड़े पैमाने पर खेती करते हैं। लेकिन उनकी खेती का तरीका और किसानों से अलग है। जिससे पूरे देश में उनकी चर्चा होती है।

अब्दुल रज्जाक के पिता मुहम्मद हारून को सब्जियां और खीरा खाने का बहुत शौक था, जहां से उनके पिता खीरा और सब्जियां खरीदते थे, ये पॉली हाउस के रासायनिक खाद से तैयार किए जाते थे, जिससे उनके पिता को कैंसर हो गया. जब उन्होंने अपने पिता को डॉक्टर को दिखाया और कैंसर का कारण जानना चाहा तो डॉक्टर ने कहा कि इस तरह के कैंसर खाने से होते हैं। डॉक्टरों ने बताया कि अभी जो सब्जी उगाई जा रही है। इन्हें रासायनिक खाद से उगाया जाता है जो कि सही नहीं है।इसकी वजह से कई लोगों की जान जा रही है। और तुम्हारे पिता को भी इसी वजह से कैंसर हुआ है। और अंत में अब्दुल रज्जाक के पिता की मृत्यु हो गई।

अब्दुल रज्जाक

अब्दुल रज्जाक कहते हैं कि जब मेरे पिता गुजरे तो उसी दिन मैंने तय कर लिया कि अब मैं रासायनिक खाद की जगह देसी खाद से खेती करूंगा ताकि कोई और कैंसर से न मरे. और वह आज लोगों के लिए आदर्श बन गए हैं।
2006 में जब उनके पिता की मृत्यु हुई तब वह 10वीं कक्षा में पढ़ रहे थे और उसी समय से उन्होंने खेती करना शुरू कर दिया।
पिता की मृत्यु के बाद उनका जीवन बदल गया। उन्होंने रासायनिक खादों से खेती बंद कर जैविक खेती शुरू की। इस मामले में अब वे न सिर्फ लोगों को फायदा पहुंचा रहे हैं बल्कि सालाना एक करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई भी कर रहे हैं।

अब्दुल रज्जाक

अब्दुल रज्जाक अपनी 10 एकड़ जमीन में खीरा, टमाटर, शिमला मिर्च और लौकी जैसी सब्जियां और साथ ही अमरूद और संतरे जैसे फल उगाते हैं और इसे बाजार में बेचकर 1 करोड़ रुपये से ज्यादा कमा रहे हैं। अब्दुल रज्जाक कहते हैं कि मुझे खेती में करीब 30 लाख रुपए खर्च करने पड़ते हैं और सालाना 70 लाख रुपए बचत होते हैं। अब्दुल रज्जाक ने जैविक खाद से खेती कर न केवल खुद को आर्थिक रूप से मजबूत बनाया है, बल्कि वर्तमान में 50-60 लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं.

जैविक खेती और खेती में नवाचार के लिए अब्दुल रज्जाक को कृषि विभाग द्वारा राज्य स्तर पर सम्मानित भी किया जा चुका है। साथ ही वर्ष 2016-17 में जिला स्तर पर तथा वर्ष 2012-13 में तहसील स्तर पर भी सम्मान प्राप्त कर चुके हैं। अब्दुल रज्जाक ने भीलवाड़ा जिले की पहली जैविक प्रयोगशाला में जैविक खाद और जैविक रसायन का विकास किया है।

अब्दुल रज्जाक ने बताया कि वह अपनी 10 एकड़ जमीन में से 2 एकड़ में अमरूद और संतरे उगाते हैं। बाक़ी 8 एकड़ जमीन में शिमला मिर्च, आम मिर्च, खीरा, टमाटर और गोभी सहित सब्जी की खेती करते हैं। प्रगतिशील जैविक किसान अब्दुल रज्जाक कहते हैं कि अब मेरी सारी उपज भीलवाड़ा के बाजार में बिकती है, जहां मुझे रासायनिक खाद से उगाए गए फलों और सब्जियों से कम कीमत मिलती है। जबकि जैविक खेती से पहले दो से तीन वर्षों में अन्य की तुलना में कम उपज होती है, लेकिन ये कम कीमत भी मेरे संकल्प को डिगा नहीं पाए। शुरुआत में मुझे ज्यादा मुनाफा नहीं हुआ। लेकिन मैंने कभी इसकी परवाह नहीं की। और इच्छाशक्ति के साथ अपने काम में लगा रहा और आज मुझे सफलता मिल गई। आज मैं आर्थिक रूप से भी मजबूत हो गया हूं। और लोगों को रोजगार भी दे रहा हूं। साथ ही शुद्ध भोजन भी बिना मिलावट के खा रहा हूं और दूसरों को भी खिला रहा हूं। जिससे लोग कई तरह की बीमारियों से बचे रहते हैं।

अब्दुल रज्जाक ने कहा कि जैविक खेती भी आसान नहीं है। यह बहुत महंगा और श्रम साध्य है। वह कहते हैं कि मैं देसी खाद बनाने के लिए गोबर, हरी पत्तियों और जानवरों के मूत्र का इस्तेमाल करता हूं। और मैं उसी खाद से खेती करता हूं। साथ ही उनका कहना है कि वे फसल को कीड़ों से बचाने के लिए नीम के पत्ते, निम्बूली, छाछ के पत्ते, आड़ू के पत्ते और सभी तरह के पेड़ों के पत्तों का इस्तेमाल करते हैं.

अब्दुल रज्जाक को अब एक रोल मॉडल माना जाता है। और दूर-दूर से लोग उनके पास आते हैं और खेती का तरीका सीखते हैं। रज्जाक ने कहा कि वर्तमान में राज्य भर से किसान पॉली हाउस, नेट हाउस से खेती के तरीके सीखने आते हैं। इसके साथ ही रजाक खुद भी लोगों को जैविक खेती के बारे में शिक्षित करने के लिए सोशल मीडिया के जरिए मुफ्त में जानकारी देते हैं।

अब्दुल रज्जाक

अब्दुल रज्जाक ने यह भी बताया कि आत्मा परियोजना के सहायक निदेशक कृषि विभाग भीलवाड़ा जीएस चावला, उद्यानिकी विभाग के सहायक निदेशक राकेश कुमार मल्ला और उप निदेशक कृषि रामपाल खट्टक भी उन्हें समय-समय पर अपडेट देते रहते हैं. इससे उन्हें कुछ नया सीखने का मौका मिलता है।

भीलवाड़ा में कृषि विभाग की आत्मा परियोजना के उप निदेशक जीएल चावला ने कहा कि जैविक खेती करने वाले अब्दुल रज्जाक बहुत पढ़े लिखे नहीं हैं। लेकिन वे जैविक किसान हैं। वे स्वयं सभी प्रकार के जैविक खाद और कीटनाशकों का उत्पादन करते हैं।

जीएल चावला ने कहा कि अब्दुल रज्जाक को राज्य स्तरीय कृषि विभाग द्वारा 50 हजार रुपये नकद और एक प्रमाण पत्र दिया गया है. इससे पहले उन्हें जिला स्तर पर भी सम्मान से नवाजा जा चुका है।

Related Posts

1 of 6

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *